इजरायल की हमास के साथ दुश्मनी: नक्शे से मिटाने की लंबी लड़ाई, 7 दशकों का इतिहास देखें

इजरायल की हमास के साथ दुश्मनी

AR News Digital Desk, Israel Hamas War Reason: इजरायल और हमास के बीच युद्ध को एक हफ्ते हो गए हैं। हालांकिं इजरायल और फिलिस्तीन के बीच का संघर्ष सात दशक पुराना है। संघर्ष का नेतृत्व करने वाले लोग दोनों पक्षों में बदलते रहे, लेकिन यह संघर्ष खत्म नहीं हुआ। इजरायल के बनने के साथ ही यह संघर्ष शुरू हुआ।

तेल अवीव: इजराल पर हमास के हमले को एक हफ्ते हो गए हैं। इस हमले ने इजरायली और फिलिस्तीनियों के बीच सात दशकों के युद्ध और संघर्ष में को एक बार फिर दुनिया के सामने रखा है। इस संघर्ष ने एक बार फिर मध्य पूर्व को अस्थिर करने का काम किया है। लेकिन आखिर हमास और (इजरायल की हमास के साथ दुश्मनी) इजरायल एक दूसरे के दुश्मन क्यों हैं? दरअसल इस सबकी शुरुआत इजरायल बनने के साथ होती है। इजरायल के संस्थापक डेविड बेन गुरियन ने 14 मई 1948 को आधुनिक इजरायल की घोषणा की।(इजरायल की हमास के साथ दुश्मनी)

इजरायल बनाने का लक्ष्य था कि दशकों तक भटकते रहे यहूदियों का अपना एक देश होगा। जिस जगह इजरायल बना वह फिलिस्तीन का हिस्सा था। इजरायल के बनने को फिलिस्तीनियों ने तबाही के रूप में बताया। इस जगह पर ब्रिटिश का राज था। इजरायल के बनने पर लगभग सात लाख लोग या उस दौरान फिलिस्तीन की आधी अरब आबादी घर छोड़कर चली गई या उन्हें जबरन निकाल दिया गया। यहां से लोग जॉर्डन, लेबनान और सीरिया के साथ-साथ गाजा, वेस्ट बैंक और पूर्वी यरूशलम पहुंच गए।(इजरायल की हमास के साथ दुश्मनी)

देश बनते ही हुआ हमला

फिलिस्तीन को बांटकर इजरायल के बनाने की घोषणा 14 मई 1948 को हुई थी। अगले ही दिन पांच अरब देशों ने उसके ऊपर हमला कर दिया। 1949 में युद्धविराम समझौते ने लड़ाई रोक दी लेकिन कोई औपचारिक शांति नहीं हो सकी। जो अरब आबादी बच गई वह आज आबादी में 20 फीसदी हैं। इसके बाद 1964 में फिलिस्तीन लिबरेशन ऑर्गेनाइजेशन (PLO) बनी, जिसका उद्देश्य इजरायल को नक्शे से मिटाना था। इसके नेता यासर अराफात थे। PLO ने कई हमले और हाईजैक किए लेकिन कामयाबी नहीं मिली

इजरायल ने लड़ा युद्ध

इसके बाद 1967 में इजरायल ने छह दिनों का युद्ध लड़ा और अरब के पांच देशों को एकसाथ हरा दिया। इसके बाद इजरायल ने वेस्ट बैंक, पूर्वी यरूशलम और गोलान हाईट्स पर कब्जा कर लिया। 1973 में इजरायल और सीरिया ने फिर हमला किया, लेकिन तीन हफ्ते में दोनों सेनाओं को उसने पीछे धकेल दिया। इजरायल ने 1982 में लेबनान पर हमला किया और 10 सप्ताह की घेराबंदी के बाद यासिर अराफात के नेतृत्व में हजारों फिलिस्तीनी लड़ाकों को समुद्र के रास्ते निकाला गया।(इजरायल की हमास के साथ दुश्मनी)

गाजा पर अब हमास का कब्जा

PLO एक आतंकी संगठन न होकर फिलिस्तीन की लड़ाई सेक्युलर तरीके से लड़ रहा था। लेकिन शेख अहमद यासीन के नेतृत्व में कई इस्लामिक संगठन बने जो 1987 के बाद हमास बन गए। इजरायल ने 2005 में गाजा को छोड़ दिया जो उसने 1967 में मिस्र से जीता था। 2006 में हमास ने इसपर कब्जा कर लिया। लेकिन तब से कई बार ऐसे मौके आए हैं, जब इजरायल के विरोध के सुर सुनाई दिए हैं। 2006, 2008, 2012, 2014 और 2021 में गाजा की ओर से बड़े पैमाने पर रॉकेट दागे गए। जवाब में इजरायल ने भी हवाई हमले किए।(इजरायल की हमास के साथ दुश्मनी)

नई जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करे |