ऋण: साहूकार से कर्ज चुकाने के लिए 5 किडनी बिकाने पड़ गए, कलेक्टर कार्यालय में लगे हैं पोस्टर, जानें पूरा मामला

ऋण

AR News Digital Desk, Nanded Kidneys Sell Posters News: नांदेड़ में साहूकार के कर्ज से किसान परेशान हैं। आलम यह है क‍ि अपनी असमर्थता के कारण महिला ने अपने पति और बच्चों के साथ अपनी किडनी बेचने का फैसला किया। मह‍िला ने इसका पोस्‍टर कलेक्‍टर के ऑफ‍िस में चस्‍पा क‍िया है।(ऋण)

नांदेड़: महाराष्‍ट्र के नांदेड़ ज‍िले में अजीबोगरीब मामला सामने आया है। नांदेड़ की एक महिला ने साहूकार का कर्ज चुकाने के लिए पांच किडनी बेचने का पोस्टर लगाया है। ये पोस्टर कलेक्टर कार्यालय की दीवार पर चिपकाए गए हैं। इतना ही नहीं महिला ने सूदखोरों के डर से दो साल से अपने परिवार के साथ अपना घर भी छोड़ दिया है। कलेक्टर कार्यालय की दीवार पर लगा यह पोस्टर हर किसी का ध्यान खींच रहा है।

वैवरादाद नांदेड़ जिले में महिला किसान सत्यभामा बालाजी कुंचलवार ने एक पोस्टर लगाया है, जिसमें उनके परिवार में पति, दो बेटे और एक बेटी सहित पांच सदस्य हैं। सबसे बड़े बेटे ने 10वीं, दूसरे बेटे ने 7वीं और बेटी ने 5वीं तक पढ़ाई की है। वैवरादाद में उनका सात एकड़ का खेत है। तीन साल पहले उसने मुद्खेद के एक निजी साहूकार से दो लाख रुपये कर्ज लिया था। इस बीच उसने कुछ पैसे चुका दिये थे। लेकिन कोरोना लॉकडाउन के दौरान सब कुछ बंद हो गया। खेती से ज्यादा आमदनी नहीं होती थी। सत्यभामा ने कहा कि इस वजह से वह लिया गया कर्ज नहीं चुका सकीं।(ऋण

कर्ज न चुका पाने से छोड़ा गांव

मह‍िला ने बताया क‍ि कर्ज न चुका पाने के कारण वे साहूकारों की ओर से प्रताड़ित किए जा रहे हैं और गांव छोड़कर चले गए हैं। साथ ही यदि दूसरों को खेती की अनुमति दी जाती है तो उन लोगों को भी साहूकारों की ओर से परेशान किया जा रहा है। इसी बीच उनके एक बेटे को सांप ने काट लिया। उन्होंने मुंबई में उनका इलाज किया। यहां वे मजदूरी कर अपना जीवन यापन कर रहे हैं। सत्यभामा लोगों के घर बर्तन धोती हैं और बच्चे भी छोटा-मोटा काम करते हैं। उनकी पढ़ाई अब बंद हो गई है। साथ ही उनके पति बालाजी की हालत काम करने लायक नहीं है। उनका मानसिक संतुलन भी बिगड़ जाता है। सत्यभामा ने कहा क‍ि उन्हें ठीक होने में बहुत समय लगता है।(ऋण)

क्या लिखा था पोस्टर पर?

पांच किडनी बेचनी है, संपर्क के लिए मोबाइल नंबर भी नीचे अंग्रेजी में लिखा है। य‍ह बात मराठी और अंग्रेजी दोनों में ल‍िखी गई है।(ऋण)

साहूकारों के डर से गांव छोड़ दिया

महिला ने कहा कि कर्जदार को भुगतान करना उनका प्राथमिक कार्य है और उन्होंने मृत्यु के बदले एक किडनी बेचने और एक किडनी के साथ जीने का निर्णय लिया है। उनका मुख्य लक्ष्य है अपने बच्चों की शिक्षा पूरी करना और उन्हें अच्छे जीवन की सुविधा प्रदान करना।वे 5 लोग हे | इनमें से जिनकी किडनी मरीज के लिए सही हो उन्हें बेचा जाना है।(ऋण) उस पैसे से साहूकार को भुगतान करना होगा। मैं नांदेड़ आऊंगी और सब कुछ विस्तार से बताऊंगी। आप मेरी मदद करें सत्यभामा बालाजी कुंचलवार ने कहा गया है कि साहूकारों के भय से उन्होंने अपने गांव को छोड़ दिया है और वे अब अपनी जान की मोहताज हो गई हैं।