Onion Price Hike: प्याज की कीमतों ने छुआ आसमान, जानिए Rate बढ़ने का क्या है कारण |

Onion Price Hike

AR News  Digital Desk, नई दिल्ली : Onion Price Hike: इस बढ़ती महंगाई की दौड़ में आम आदमी को आर्थिक झंझट से जूझना पड़ रहा है. हमारे दैनिक जीवन में रोजाना काम आने वाली चीजों में लगातार महंगाई बढ़ती जा रही है. आपको बता दे की कुछ दिनों पहले टमाटर में इतनी महंगाई आ गई की एक आम इंसान उसे आसानी से नहीं खरीद पाता था, अब उसके बाद बात करें प्याज की तो प्याज के दामों में एकदम से भारी उछाल आ गया है, तो आइए हम जानते हैं प्याज की लेटेस्ट अपडेट(Onion Price Hike)

इन त्योहारों के सीजन में प्याज के दाम आसमान छू रहे है। हम बात करें राजधानी दिल्ली की तो राजधानी दिल्ली में प्याज की कीमत ₹70 हो गई है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक महाराष्ट्र के लासलगांव एपीएमसी प्याज के थोक भाव पिछले 15 दिनों में बढ़ गए हैं. जिसका मुख्य कारण महाराष्ट्र में कुल बोए गए क्षेत्र में कमी है. पिछले हफ्ते ही प्याज की कीमत तो मैं 18 पीस दी की बढ़ोतरी हो गई है.

मंगलवार तक लासलगांव में प्याज की कीमत 25 रुपए किलोग्राम थी, जो तीन हफ्ते पहले ₹24 प्रति किलो ग्राम से 58% अधिक है, इससे पहले की बात करें तो टमाटर की कीमतों में भी यही हाल देखने को मिला था, की वजह से आम लोगों को इस महंगाई में काफी मुसीबत का सामना करना पड़ा था,(Onion Price Hike)

ऑलेक्स कार बाजार: सपनों की गाड़ी अब एक क्लिक पर | olx car | olx 2023

दिल्ली में प्याज की कीमत 

देश की राजधानी दिल्ली में प्याज की खुदरा कीमतें 25-50 फीसदी तक बढ़ गई हैं. फिलहाल प्याज 50-70 रुपये किलो बिक रहा है. बुधवार को दिल्ली के साथ-साथ महाराष्ट्र के कुछ बाजारों में अच्छी क्वालिटी वाले प्याज की उच्चतम कीमत 50 रुपए प्रति किलोग्राम तक पहुंच गई. अहमदनगर में, 10 दिनों में प्याज की औसत कीमतें लगभग 35 रुपए प्रति किलो से बढ़कर 45 रुपए प्रति किलो हो गई हैं. इसी तरह, महाराष्ट्र के अधिकांश प्याज उत्पादक जिलों में प्याज की थोक कीमतें अब 45 से 48 रुपए प्रति किलोग्राम के बीच हैं.

Onion Price : क्या और भी बढेगी कीमत 

रिपोर्ट में कहा गया है कि प्याज की कीमतें दिसंबर तक बढ़ने का अनुमान है, साथ ही नई खरीफ फसल के आने में भी देरी हो रही है, जो लगभग दो महीने की देरी से आने की उम्मीद है. बाजारों में प्याज की घटती आवक प्याज की कीमतों में बढ़ोतरी का मुख्य कारण है. रिपोर्ट में कहा गया है कि पिछले एक पखवाड़े में, भंडारित प्याज की आवक में लगभग 40 प्रतिशत की गिरावट आई है, जो लगभग 400 वाहन प्रति दिन (10 टन प्रत्येक) से घटकर लगभग 250 वाहन हो गई है. 

नए प्याज में होगी देरी 

अहमदनगर जिले के प्याज व्यापारियों के संघ के अध्यक्ष नंदकुमार शिर्के ने ईटी से बात करते हुए कहा कि यह स्थिति बनी रहने की उम्मीद है क्योंकि खरीफ सीजन से नए लाल प्याज की आवक में लगभग दो महीने की देरी हो रही है. केंद्र सरकार ने 25 अगस्त को प्याज के निर्यात पर 40 फीसदी शुल्क लगा दिया था. इसके अतिरिक्त, सरकार ने बढ़ती कीमतों पर अंकुश लगाने के लिए नेफेड द्वारा खरीदे गए प्याज को मौजूदा बाजार दरों से कम पर थोक बाजारों में बेचना शुरू कर दिया.(Onion Price Hike)