‘गायत्री मंत्र’ का अर्थ, जप विधि और इस से होने वाले फायदे!

गायत्री मंत्र

गायत्री मंत्र, हिन्दू धर्म में प्रमुख मंत्रों में से एक है और इसका महत्व बहुत अधिक माना जाता है। यह सर्वाधिक प्रचलित मंत्रों में से एक है और इसे वेदों में प्राप्त माना जाता है। इस मंत्र का जाप करने से व्यक्ति की आत्मा को शुद्धि, शक्ति, और उज्ज्वलता मिलती है।

गायत्री मंत्र का अर्थ:

  • गायत्री मंत्र का अर्थ है, “ओं भूर्भुवः स्वः तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो नः प्रचोदयात्।” इसका अर्थ है कि हे भगवान, हम तुझे प्रार्थना करते हैं कि तू हमारी बुद्धि को दीप्ति से प्रज्वलित करें।

गायत्री मंत्र का जप विधि:

  • गायत्री मंत्र का जप सुबह-शाम करना अधिक फलदायी माना जाता है। इसे ध्यान से और श्रद्धापूर्वक जप करना चाहिए। यह आत्म-साक्षात्कार और अध्यात्मिक उन्नति का माध्यम भी है।

गायत्री मंत्र से होने वाले फायदे:

  1. मानसिक शांति और स्थिरता।
  2. बुद्धि की उज्ज्वलता और विचारशीलता।
  3. शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की उन्नति।
  4. समृद्धि और समृद्धि की प्राप्ति।
  5. आत्म-साक्षात्कार और आध्यात्मिक उन्नति।

गायत्री मंत्र का जप करने से व्यक्ति को आध्यात्मिक और मानसिक उन्नति की प्राप्ति होती है, जो उसकी दैनिक जीवन में सकारात्मक बदलाव लाती है।

ऐसी ओर बड़िया न्यूज के लिए हमारे व्हाट्सअप ग्रुप मे जॉइन हो जाइए |