पति घर पर नहीं थे, तो देवर-भाभी कर रहे थे ये काम, नौकर ने देखा सब कुछ

देवर-भाभी कर रहे थे ये काम

AR News Digital Desk, नई दिल्ली : पति घर पर नहीं था तो देवर भाभी कर रहे थे यह काम, यह सब नौकर देख रहा था, तीन साल से चल रहे प्रेम प्रसंग के बीच एक दूजे के नहीं होने पर भाभी संग चचेरे देवर ने जान देने की ठान ली। शनिवार देर शाम दोनों बाइक से कछला पुल पर पहुंचे। यहां दोनों ने गंगा में छलांग लगा दी।(देवर-भाभी कर रहे थे ये काम)

तीन साल से चल रहे प्रेम प्रसंग के बीच एक दूजे के नहीं होने पर भाभी संग चचेरे देवर ने जान देने की ठान ली। शनिवार देर शाम दोनों बाइक से कछला पुल पर पहुंचे। यहां दोनों ने गंगा में छलांग लगा दी। गनीमत रही, घाट पर मौजूद गोताखोर दोनों को छलांग लगाते देखते ही उन्हें बचाने में जुट गये। गोतोखोरों ने दोनों को सकुलशल निकालकर कछला चौकी पुलिस के सुपुर्द कर दिया। पुलिस ने दोनों के परिजनों को बुलाया, लेकिन लेटलतीफी के बाद उन्हें रात करीब बजे सीएचसी उझानी पर भर्ती कराया।

घटना उझानी कोतवाली क्षेत्र के नगर पंचायत कछला पुल की है। कासगंज जिले के सोरों थाना क्षेत्र के साखऊ गांव के निवासी एक युवक का अपनी तहेरी भाभी के साथ तीन साल से प्रेम प्रसंग चल रहा था। भाभी की शादी आठ साल पूर्व युवक के सगे तहेरे भाई से हुई थी। भाभी पर तीन बच्चे हैं, जबकि युवक अभी अविवाहित है।(देवर-भाभी कर रहे थे ये काम)

युवक के घर में आने जाने के कारण उसकी भाभी के साथ नजदीकियां हो गयी। दोनों में प्रेम प्रसंग हो गया। दोनों ने एक दूसरे के साथ रहने और जीने मारने की कसम खायी थी। इस बीच प्रेम प्रसंग की भनक घरवालों को किसी तरह लग गयी। जिससे दोनों पर निगरानी होने लगी। घरवालों के पहरे से दोनों एक दूसरे से मिलने को तरसने लगे। जिससे दोनों ने एक साथ मरने की ठान ली।(देवर-भाभी कर रहे थे ये काम)

पुलिस के मुताबिक, शनिवार की देर शाम दोनों परिजनों से बचते हुये बाइक से कछला पुल पर पहुंचे। यहां पुल पर बाइक खड़ी की। इसके बाद पुल से गंगा में छलांग लगा दी। कांवड़ यात्रा होने के कारण घाट पर काफी तदाद में गोताखोर मौजूद थे। गोताखोरों जैसे ही पुल से दोनों को नीचे गिरते देखा वैसे ही वे दोनों को बचाने में जुटे गये।

 गोताखोर ओमकार, लक्ष्मण, सोनू, सोना ने काफी मशक्कत के बाद दोनों को गंगा में बहने से बचा लिया और बाहर निकालकर पुलिस को सूचना दी। कछला चौकी पुलिस दोनों को लेकर चौकी पर आयी। यहां पूछताछ करने पर उनके परिजनों को सूचना दी गयी, लेकिन रात दस बजे तक परिजन नहीं पहुंच सके। पुलिस ने दोनों का मेडिकल परीक्षण के लिए उझानी सीएचसी पर भिजवाया है।